अविश्वसनीय, अद्भुत और रोमाँचक: अंतरिक्ष

Posts Tagged ‘वायेजर 2’

सौर मंडल की सीमा पर वायेजर 1

In अंतरिक्ष, अंतरिक्ष यान, सौरमण्डल on जून 15, 2012 at 7:53 पूर्वाह्न

चित्रकार की कल्पना मे वायेजर 1 की वर्तमान स्थिती

चित्रकार की कल्पना मे वायेजर 1 की वर्तमान स्थिति

नासा के अंतरिक्ष यान वायेजर 1 के ताजा आंकड़ो से ऐसा लग रहा है कि वह सौर मंडल की सीमा पर पहुंच चूका है। अब वह ऐसे क्षेत्र मे है जहाँ पर सौर मंडल बाह्य आवेशित कणो की मात्रा स्पष्टतया अधिक है। वायेजर से जुड़े वैज्ञानिक इन सौरमंडल बाह्य आवेशित कणो की मात्रा मे आयी तीव्र वृद्धि से इस ऐतिहासिक निष्कर्ष पर पहुंचे है कि वायेजर अब ऐसा प्रथम मानव निर्मित यान है जो कि सौर मंडल की सीमा तक जा पहुंचा है।

वायेजर यान

वायेजर यान

वायेजर से आने वाले आंकड़े पृथ्वी तक 17.8 अरब किमी की यात्रा करने मे अब 16 घंटे 38 मिनिट लेते है। नासा के डीप स्पेश नेटवर्क द्वारा प्राप्त वायेजर के आंकड़े सौरमंडल बाह्य आवेशित कणो की विस्तृत जानकारी देते है। ये आवेशित कण हमारे खगोलीय ब्रह्मान्डीय पड़ोस मे तारो के सुपरनोवा विस्फोट से उत्पन्न होते है।

जनवरी 2009 से जनवरी 2012 के मध्य मे ब्रह्माण्डीय विकिरण की मात्रा मे वायेजर ने 25% की वृद्धि दर्ज की है। लेकिन हाल ही मे वायेजर ने इन किरणो की मात्रा मे तीव्र वृद्धि देखी है, 7 मई 2012 के पश्चात इन कणो मे वृद्धि हर सप्ताह 5% की दर से हो रही है और पिछले एक महीने 9% मे वृद्धि देखी गयी है।

यह स्पष्ट वृद्धि हमारे अंतरिक्ष अभियान मे एक नये युग का प्रारंभ है। इस अंतरिक्षयान से प्राप्त सूचनाओं का दूसरा महत्वपूर्ण पहलू यह है कि उसने हीलीयोस्फीयर के आवेशित कणो की मात्रा मे कमी दर्ज की है। हीलीयोस्फीयर सूर्य द्वारा उत्सर्जित आवेशित कणो का एक बुलबुला है। जब वायेजर सौर मंडल की सीमा पार कर जायेगा, तब सूर्य द्वारा उत्सर्जित कणो की मात्रा मे एक तेज कमी आयेगी और एक नया इतिहास बनेगा।

वायेजर से प्राप्त सौर मंडल के इन अंतिम आंकड़ो से वैज्ञानिक को पता चलेगा कि वायेजर यान को घेरे हुये चुंबकिय धाराओं की दिशा मे परिवर्तन हो गया है। जब वायेजर हिलीयोस्फीयर मे है तब इन चुंबकिय धाराओं की दिशा पूर्व से पश्चिम है। जब वायेजर सौर मंडल के बाहर खगोलिय क्षेत्र मे पहुंच जायेगा इन चुंबकिय धाराओं की दिशा उत्तर-दक्षिण होगी। इस विश्लेषण के लिये कई हफ़्ते लग जायेंगे और वायेजर वैज्ञानिक अभी इसका अध्यन कर रहे हैं।

वायेजर को 1977 मे प्रक्षेपित किया गया था, तब अंतरिक्ष अभियान केवल 20 वर्ष का था, उस समय किसी ने सोचा भी नही था कि वायेजर सौर मंडल की सीमाओं तक जा सकेगा। लेकिन वायेजर 1 (वायेजर 2 भी) ने सारी उम्मीदों से कहीं आगे जाकर अपने अभियान को एक नयी उंचाईयों तक पहुंचाया है।

यह दोनो यान अभी भी अच्छी अवस्था मे हैं। वायेजर 2 सूर्य से 14.7 अरब किमी दूरी पर हैं। दोनो वायेजर अभियान के तहत कार्य कर रहे है, जोकि सौर मंडल के ग्रहों के अध्यन का विस्तारित अभियान है।

वर्तमान मे वायेजर मानवता के सबसे दूरस्थ सक्रिय दूत है।

यह भी देखें :

  1. ब्रह्माण्ड की अनंत गहराईयो की ओर : वायेजर १
  2. मानव इतिहास का सबसे सफल अभियान :वायेजर २
Advertisements

मानव इतिहास का सबसे सफल अभियान :वायेजर 2

In ग्रह, सौरमण्डल on मार्च 19, 2007 at 2:26 अपराह्न

वोयेजर २

वोयेजर २

वायेजर २ यह एक मानव रहित अंतरग्रहीय शोध यान था जिसे वायेजर 1 से पहले 20 अगस्त 1977 को प्रक्षेपित किया गया था।

यह अपने जुड़वा यान वायेजर 1 के जैसा ही है, लेकिन वायेजर १ के विपरित इसका पथ धीमा है। इसे धीमा रखकर इसका पथ युरेनस और नेपच्युन तक पहुचने के लिये अभिकल्पित किया गया था। शनि के गुरुत्वाकर्षण के फलस्वरूप यह युरेनस की ओर धकेल दिया गया था जिससे यह यान वायेजर १ की तरह टाईटन चन्द्रमा को नही देख पाया था। लेकिन यह युरेनस और नेपच्युन तक पहुंचने वाला पहला यान बन गया था, इस तरह मानव का एक विशेष ग्रहीय परिस्थिती के दौरान जिसमे सभी ग्रह एक सरल रेखा मे आ जाते है;महा सैर (Grand Tour) का सपना पूरा हुआ था। यह विशेष स्थिती हर 176 वर्ष पश्चात उतपन्न होती है।

वायेजर २ का पथ

वायेजर २ का पथ

वायेजर 2 यह सबसे ज्यादा सुचनाये प्राप्त करने वाला शोध यान है, जिसने चार ग्रह और उनके अनेको चन्द्रमाओ की अपने शक्तिशाली कैमरो और उपकरणो के साथ यात्रा की है। जबकि इस यान पर खर्च हुआ धन अन्य विशेष शोध यानो जैसे गैलेलीयो या कासीनी-हायगेन्स की तुलना मे काफी कम है।

यह यान मूलतः मैरीनर कार्यक्रम के यान मैरीनर 12 के रूप मे बनाया गया था। इसे 20 अगस्त 1977 को केप केनर्वल फ्लोरीडा से टाईटन ३इ सेन्टार राकेट से प्रक्षेपित किया गया था।

बृहस्पति ग्रह

बृहस्पति ग्रह

बृहस्पति के उपग्रह -आयो,युरोपा,गिनिमेड,कैलीस्टा

बृहस्पति के उपग्रह -आयो,युरोपा,गिनिमेड,कैलीस्टा

गुरू की सैर
9 जुलाई 1979 को वायेजर गुरु के सबसे समिप 570,000 किमी की दूरी पर था। इस यान ने गुरू के कुछ वलयो की खोज की। इसने गुरू के चन्द्रमा आयो की तस्वीरे ली और उसपर एक सक्रिय ज्वालामुखी का पता लगाया। पहली बार किसी अंतरिक्ष पिंड पर ज्वालामुखी का पता चला था।
गुरू सौरमंडल का सबसे बडा़ ग्रह है, जो मुख्यतः हायड्रोजन और हीलीयम से बना है, कुछ मात्रा मे मिथेन,अमोनिया, जल भाप, अन्य यौगीको के अल्प मात्रा भी है। इसके केन्द्र मे द्रव अवस्था मे पत्त्थर और बर्फ है। इसके अक्षांसो पर बने रंगीन पट्टे, वातावरण मे बादल और तुफान इस ग्रह के हमेशा बदलने वाले मौसम के बारे मे बताते है। इस महाकाय ग्रह के अब तक ज्ञात चन्द्रमाओ की संख्या 63 तक पहुंच चूकी है। यह ग्रह सूर्य की 11.8 वर्ष मे और खुद की परिक्रमा 9 घण्टे 55 मिनट मे करता है। अंतरिक्ष विज्ञानी इस ग्रह का आंखो से और दूरबीन से सदियो से निरिक्षण करते आ रहे है लेकिन वे वायेजर 2 द्वारा प्रदान की गयी अनेको सूचनाओ से आश्चर्य चकित रह गये थे।
इस ग्रह पर स्थित विशाल लाल धब्बा एक महाकाय तुफान है जो घडी़ के कांटो की विपरीत दिशा मे घूम रहा है। इस ग्रह पर कई अन्य छोटे तुफान भी पाये गये।

वायेजर २ का प्रक्षेपण

वायेजर २ का प्रक्षेपण

आयो चन्द्रमा पर पाया गया सक्रिय ज्वालामुखी यह सबसे ज्यादा अनपेक्षित खोज थी। इस ज्वालामुखी से निकलने वाला लावा और धुंवा सतह से 300 किमी तक जाता है। वायेजर 2  ने इस ज्वालामुखी से उत्सर्जीत पदार्थ की अधिकतम गति 1 किमी प्रति सेकंड तक मापी थी। आयो के ज्वालामुखी इस चन्द्रमा पर ज्वारीय प्रभाव के कारण होने वाली उष्णता के कारण है। आयो अपनी कक्षा से समिओ के चन्द्रमा युरोपा और गीनीमेड के कारण भटकता है लेकिन गुरू का गुरुत्व उसे वापिस अपनी कक्षा मे ला देता है। इस रस्साकसी के चलते आयो पर 100 मीटर उंचा ज्वार आता है। ध्यान दें कि पृथ्वी पर आनेवाला ज्वार सिर्फ 1 मीटर उंचा रहता है।
आयो के इस ज्वालामुखी का प्रभाव सम्पूर्ण गुरू मंडल(गुरू और उसके चन्द्रमा) पर पडा़ है। ये ज्वालामुखी गुरू के चुंबकिय क्षेत्र मे पाये जाने वाले पदार्थ का मुख्य श्रोत है। इस ज्वालामुखी से उत्सर्जीत पदार्थ गंधक(सल्फर),आक्सीजन, सोडीयम गुरू से लाखो किमी दूर तक पाये गये हैं।
वायेजर 1 द्वारा ली गयी युरोपा की तस्वीरो मे एक दूसरे को काटती रेखाओ जैसी संरचनाओ का पता चला था। प्रारंभ मे विज्ञानीयो को ये भूकंप द्वारा निर्मीत गहरी दरारे जैसी प्रतित हुयी थी। वायेजर 2 द्वारा ली तस्वीरो ने इस रहस्य को और गहरा कर दिया। एक विज्ञानी के अनुसार ये किसी पेन द्वारा खींची गयी रेखाये जैसी है। संभावना है कि ज्वारीय प्रभाव की उष्णता के कारण युरोपा आंतरिक रूप से सक्रिय है, ये ज्वारीय प्रभाव आयो की तुलना मे दहाई है। युरोपा का भूपृष्ठ पतला है लगभग 30 किमी मोटी बर्फ से बना है, जो शायद ५० किमी गहरे समुद्र पर तैर रही है।
गीनीमेड सौरमंडल का सबसे बड़ा चन्द्रमा है, जिसका व्यास 5,276 किमी है। इसकी सतह पर दो तरह के मैदान दिखायी दिये है एक क्रेटर से भरा हुआ है दूसरा पहाड़ो से। विज्ञानीयो को इससे प्रतित होता है कि गीनीमेड का बर्फीला भूपृष्ठ सर्वत्र व्याप्त विवर्तनिक प्रक्रियाओ से उतपन्न तनाव से प्रभावित है।
कैलीस्टो का भूपृष्ठ काफी पूराना और उल्कापातो से बने क्रेटरो से भरा पड़ा है। सबसे बड़ा क्रेटर बर्फ से भर गया है।
गुरू के आसपास एक धूंधला और पतला वलय पाया गया है, जिसका बाहरी व्यास 129,000 किमी और चौडा़ई 30,000की मी है। दो नये चन्द्रमा एड्रास्टी और मेटीस इस वलय से ठीक बाहर की ओर पाये गये। एक तीसरा नया चन्द्रमा थेबे ,अमाल्था औरआयो के बीच मे पाया गया।
गुरू के वलय और चन्द्रमा गुरू के चुंबकिय प्रभाव के जाल मे फंसे एक घने इलेक्ट्रान और आयन के एक बड़े विकीरण पट्टे के मध्य है। ये कण और चुंबकिय क्षेत्र एक जोवीयन चुंबकिय वातावरण बनाते है जो कि सूर्य की ओर 30 लाख से 70 लाख किमी तक और शनि की ओर 7500 लाख किमी तक विस्तृत है।
यह चुंबकिय वातावरण गुरु के साथ ही घुर्णन करता है, यह वातावरण आयो से हर सेकंड १ टन पदार्थ उड़ा ले जाता है। यह पदार्थ एक अंगूठी की शक्ल मे आयनो का एक बाद्ल बनाता है जो पराबैंगनी किरणो मे चमकता है। इस वलय मे भारी आयन बाहर की तरफ जाते है, जिसके दबाव से जोवीयन चुंबकिय क्षेत्र अपेक्षित आकार से दूगना फैल जाता है।
आयो इस चुंबकिय क्षेत्र मे परिक्रमा करते हुये एक विद्युत निर्माण संयत्र का कार्य करता है, इसके व्यास के साथ 400,000 वोल्ट और 30 लाख एम्पीयर की विद्युत धारा प्रवाहीत होती है जो कि इस ग्रह के चुंबकिय क्षेत्र मे प्रभा का निर्माण करती है।

शनि का चन्द्रमा आयपेट्स

शनि का चन्द्रमा आयपेट्स

शनि का चन्द्रमा  टाईटन

शनि का चन्द्रमा टाईटन

शनि का चन्द्रमा  एन्सेलडस

शनि का चन्द्रमा एन्सेलडस

शनि की सैर
25 अगस्त 1981 को शनि के सबसे समीप आया था। शनि के पिछे रहते हुये वायेजर 2 ने शनि के बाहरी वातावरण के तापमान और घन्तव का मापन किया। वायेजर ने बाहरी सतह पर  (7 किलो पास्कल) पर तापमान 70 केल्विन(-203 डीग्री सेल्सीयस) और अंदरूनी तह पर (120 किलो पास्कल) पर १४३(-१२० डीग्री सेल्सीयस) केल्विन तापमान पाया। उत्तरी ध्रुव पर तापमान 10 केल्विन कम था, जो की मैसम के अनुसार बदल सकता है।

शनि

शनि

यह हमारे सौर मण्डल मे गुरु के बाद दूसरा सबसे बडा ग्रह है। यह रात मे आसानी से देखा जा सकता है। लेकिन इसके सुंदर वलय सिर्फ दूरबीन से देखे जा सकते है। यह ग्रह मुख्यतः हायड्रोजन और हिलीयम से बना है। शनी के वलय बर्फ के टुकडो से बने है जिनका आकार एक छोटे सिक्के से लेकर कार के आकार तक है। पृथ्वी से ली गयी तस्वीरो मे हम सिर्फ शनि का दायां हिस्सा और उसपर उसके वलयो की छाया ही देख पाते है। शनि ग्रह के चारों ओर भी कई छल्ले हैं। यह छल्ले बहुत ही पतले होते हैं। हालांकि यह छल्ले चौड़ाई में 250,000 किलोमीटर है लेकिन यह मोटाई में एक किलोमीटर से भी कम हैं। इन छल्लों के कण मुख्यत: बर्फ और बर्फ से ढ़के पथरीले पदार्थों से बने हैं। वैज्ञानिकों ने एक नई खोज की है जिससे पता चलता है कि शनि ग्रह के छल्ले हो सकता है 4-5 अरब वर्ष पहले बने हों जिस समय सौर प्रणाली अपनी निर्माण अवस्था में ही थी। पहले ऐसा माना जाता था कि ये छल्ले डायनासौर युग में अस्तित्व में आए थे। अमेरिका में वैज्ञानिकों ने नासा के केसनी अंतरिक्ष यान द्वारा एकत्र आँकड़ों का इस्तेमाल करते हुए एक अध्ययन किया और पाया कि शनि ग्रह के छल्ले दस करोड़ साल पहले बनने के बजाय उस समय अस्तित्व में आए जब सौर प्रणाली अपनी शैशवावस्था में थी। साइंस डेली में यह जानकारी दी गई है। 1970 के दशक में नासा के वायजर अंतरिक्ष यान और बाद में हब्बल स्पेस टेलिस्कोप से जुटाए गए आँकड़ों से वैज्ञानिक यह मानने लगे थे कि शनि ग्रह के छल्ले काफी युवा हैं और संभवत: यह किसी धूमकेतु के बड़े चंद्रमा से टकराने के कारण पैदा हुए हैं। केसिनी अल्ट्रावायलेट इमेजिंग स्पेक्ट्रोग्राफ के मुख्य जाँचकर्ता प्रोफेसर लैरी एस्पोसिटो के अनुसारु हमें यह पता चला है कि ये छल्ले कुछ समय पहले ही अस्तित्व में नहीं आए हैं। वे संभवत: हमेशा से थे लेकिन उनमें लगातार बदलाव आता रहा और वे कई अरबों साल तक अस्तित्व में रहेंगे पृथ्वी शनि की तुलना मे सूर्य के काफी निकट है इसलिये पृथ्वी से शनि का दिन वाला हिस्सा ही दिखायी देता है।

शनि की सैर के बाद वायेजर २ चल दिया युरेनस की ओर

युरेनस की सैर
24 जनवरी 1986 को वायेजर 2 युरेनस के निकट 81,5000 किमी की दूरी पर पहुंचा। वायेजर ने युरेनस के 10 नये चन्द्रमा ढुंढ निकाले। युरेनस के वातावरण का अध्यन किया और उसकी 97.77 डिग्री झुके अक्ष का मापन और वलयो का अध्यन किया।
युरेनस सौरमंडल का तीसरा सबसे बड़ा ग्रह है। यह सूर्य की परिक्रमा 2.8 करोड़ किमी की दूरी से 84 वर्षो मे करता है। युरेनस पर एक दिन 17 घंटे 4 मिनिट का होता है।

युरेनस का अक्ष सूर्य की परिक्रमा प्रतल से 90 डिग्री अंश पर झुका हुआ है जो उसे अन्य सभी ग्रहो से अलग करता है। इस वजह से उसके ध्रुव लम्बे समय सूर्य के ठीक सामने और पिछे रहते है। सबसे आश्चर्य वाली खोज यह रही कि युरेनस का चुम्बकिय अक्ष घुर्णन अक्ष से 60 डिग्री का झुकाव लिये हुये है। युरेनस पर चुम्बकिय क्षेत्र की उपस्थिती वायेजर 2 से पहले ज्ञात नही थी। इस क्षेत्र का प्रभाव पृथ्वी के बराबर ही है। युरेनस पर विकीरण का पटटा शनि के जैसा ही पाया गया।
वायेजर द्वारा खोजे गये नए 10 चंद्रमाओं के साथ युरेनस के कुल चन्द्रमाओ की संख्या 15 हो गयी। अधिकतर नये चन्द्रमा छोटे है, जिसमे से सबसे बडे़ का व्यास 150 किमी है।

युरेनस

युरेनस

युरेनस के वलय

युरेनस के वलय

मिरांडा नामक चन्द्रमा जो पांच बडे़ चन्द्रमाओ मे से सबसे अंदरूनी है, सौर मंडल का सबसे विचीत्र पिंड है। इस चन्द्र्मा पर 20 किमी गहरी नहरे पायी गयी है जो भूगर्भीय हलचलो से बनी है। इसका भूपृष्ठ नये और पूराने का एक मिश्रण है। युरेनस के सभी पांच चन्द्रमा शनि के चन्द्र्माओ की तरह बर्फ और पत्थरो से बने है। इनमे से एरीयल सबसे चमकदार है, टाईटेनीयापर काफी बडी दरारे है, कैन्यान्स पर भूकंपीय घटनाओ के निशान है जबकि ओबेरान औरअम्ब्रीयल पर भूकम्प कम या नही आते है।
युरेनस के नौ वलय है और ये वलय शनि और गुरू के वलय से अलग है। ये वलय काफी नये है , युरेनस की उम्र से इनकी उम्र काफी कम है। ये वलय किसी चन्द्रमा के टूट जाने से बने है।

नेपच्युन के ओर
25 अगस्त 1989 को वायेजर नेपच्युन के पास पहुंचा। इस यान ने नेपच्युन के चन्द्रमा ट्रीटान की भी सैर की।
इस यान ने नेपच्युन पर गुरू के विशाल लाल धब्बे के जैस विशाल गहरा धब्बा देखा। पहले इसे एक बादल समझा जाता था, लेकिन असल मे यह बादलो मे एक बड़ा छेद है।

नेपच्युन

नेपच्युन

नेपच्युन का चन्द्रमा ट्राईटन

नेपच्युन का चन्द्रमा ट्राईटन

सौर मंडल के बाहर: सूदूर अंतरिक्ष मे

वायेजर 2 का ग्रहीय अभियान नेपच्युन के साथ खत्म हो गया था। अब यह अंतरखगोल अभियान मे तब्दिल हो गया है। वायेजर अभी भी हीलीयोस्फीयर के अंदर है। इस यान पर वायेजर 1 की तरह एक सोने की ध्वनी चित्र वाली डीस्क रखी है। यह किसी अन्य बुद्धीमान सभ्यता के लिये पृथ्वीवासीयो का संदेश है। इस डीस्क पर पृथ्बी और उसके जीवो की तस्वीरे है।इस पर पृथ्वी पर की विभिन्न ध्वनीयां जैसे व्हेल की आवाज, बच्चे के रोने की आवाज, समुद्र के लहरो की आवाज है।
5 सीतम्बर 2006 को वायेजर सूर्य से 80 खगोलीय इकाई की दूरी पर था, इसकी गति एक वर्ष मे 3.3 खगोलीय ईकाई है। अभी यह प्लूटो से उसके सूर्य की दूरी के दूगनी दूरी पर स्थित है और सेडना से भी बाहर स्थित है। लेकिन अभी भी यह एरीस क्षुद्र ग्रह के पथ के अंदर है।
वायेजर 2 वर्ष 2020 तक पृथ्वी तक संकेत भेजता रहेगा।
उर्जा की बचत और इस यान का जिवन काल बढाने के लिये विज्ञानीयो ने इसके उपकरण क्रमशः बंद करने का निर्णय लिया है।
1998: स्केन प्लेटफार्म और पराबैंगनी निरिक्षण बंद कर दिया गया
2012 : इसके एंटीना को घुमाने की प्रक्रिया(Gyro Operation) बंद कर दिया जाएगा
2012 : DTR प्रक्रिया बंद कर दी जायेगी।
2016 : उर्जा को सभी उपकरण बांट कर उपयोग करेंगे।
2020 : शायद उर्जा का उत्पादन बंद हो जायेगा

वायेजर श्रंखला इसके साथ समाप्त होती है, अगले लेख पायोनियर पर होंगे