अविश्वसनीय, अद्भुत और रोमाँचक: अंतरिक्ष

Posts Tagged ‘अंतरिक्ष शटल’

नासा के वर्चस्व का अंत : अंतरिक्ष शटल अटलांटिस की अंतिम उड़ान

In अंतरिक्ष, अंतरिक्ष यान on जुलाई 6, 2011 at 7:00 पूर्वाह्न

अंटलांटीस अंतरिक्ष शटल अपने अंतिम उड़ान के लिए प्रक्षेपण स्थल की ओर जाता हुआ। पृष्ठभूमि मे दिख रही इमारत अंतरिक्ष शटल निर्माण केन्द्र है।

अंटलांटीस अंतरिक्ष शटल अपने अंतिम उड़ान के लिए प्रक्षेपण स्थल की ओर जाता हुआ। पृष्ठभूमि मे दिख रही इमारत अंतरिक्ष शटल निर्माण केन्द्र है।

अमरीकी अंतरिक्ष संगठन नासा के अंतरिक्ष यानों(स्पेस शटल) की अंतिम उड़ान के लिए अंतिम तैयारियाँ अपने चरम पर हैं और शुक्रवार 8 जुलाई 2011 को होने वाली इस उड़ान के चालक दल के सदस्य फ्लोरिडा पहुँच चुके हैं। ये उड़ान स्थानीय समय के अनुसार 11:26 (15:26 जीएमटी) बजे होगी जिसे देखने के लिए भारी भीड़ इकट्ठा हो रही है। अटलांटिस यान शुक्रवार को कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र से छोड़ा जाएगा जिसके लिए तीन पुरुष और एक महिला अंतरिक्ष यात्री अंतिम तैयारियाँ कर रहे हैं।

इस अंतिम उड़ान में अटलांटिस यान पर साढ़े तीन टन भोज सामग्री भेजी जाएगी जो अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र में मौजूद वैज्ञानिकों को एक साल के लिए पर्याप्त होगी।

ये सामग्री भेजे जाने के बाद नासा को इस बात की ज़्यादा चिंता नहीं रहेगी कि निजी और व्यावसायिक कंपनियाँ अगर अपनी ज़िम्मेदारियों को पूरा करने में कुछ मुश्किलें महसूस करती हैं तो अंतरिक्ष केंद्र में मौजूद अंतरिक्ष वैज्ञानिकों को किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

अटलांटिस में चार वैज्ञानिक सवार होंगे जिनमें कमांडर क्रिस फ़रग्यूसन, पायलट डॉ हरली और मिशन विशेषज्ञ सैंडी मैगनस और रेक्स वॉलहीम होंगे। ये वैज्ञानिक टैक्सस के ह्यूस्टन स्थित अपने प्रशिक्षण केंद्र से कैनेडी पहुँच चुके हैं।

आठ जुलाई 2011 को अंतरिक्ष के लिए 135वीं यान उड़ान होगी और अटलांटिस की ये 33वीं उड़ान होगी। इस उड़ान के बाद कुल 135 अंतरिक्ष मिशन पूरे हो जाएंगे जिनके लिए 355 लोगों ने 852 बार उड़ान भर ली होगी। पहला अंतरिक्ष यान 12 अप्रैल 1981 को उड़ा था। अंतरिक्ष कार्यक्रम के दौरान पृथ्वी की कक्षा का चक्कर लगाने वाले यानों ने कुल मिलाकर 864,401,200 किलोमीटर (537,114,016 मील) का सफ़र तय किया है जो तीन बार पृथ्वी से सूरज तक जाने और वापिस लौटने के बराबर है। अटलांटिस यान इस सफ़र में क़रीब 65 लाख किलोमीटर (40 लाख मील) और जोड़ देगा।

इस अंतिम दौर को शुरू करने वाला पहला स्पेस शटल यान डिस्कवरी था जिसने मार्च 2011 में अपनी अंतिम उड़ान भरी थी। उसके बाद एंडीवर को भी एक जून 2011 को अंतिम उड़ान के बाद संग्रहालय में रख दिया गया है।

इन उड़ानों के बाद सभी अंतरिक्ष यानों को संग्रहालय में पहुँचाया जा रहा है। अटलांटिस को अंतिम उड़ान के बाद कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र के दर्शक परिसर में रखा जाएगा। नासा अब अपने अंतरिक्ष यानों(स्पेस शटल) को रिटायर कर रहा है ताकि निजी कंपनियाँ अब इस मैदान में अपनी सेवाएँ मुहैया करा सकें।

श्रोत: बीबीसी हिन्दी से साभार

अपने अंतिम अभियान से एन्डेवर की वापसी

In अंतरिक्ष यान on जून 2, 2011 at 7:00 पूर्वाह्न

अपने अंतिम अभियान से अमरीकी अंतरिक्ष शटल ’एन्डेवर’ की वापसी

अपने अंतिम अभियान से अमरीकी अंतरिक्ष शटल ’एन्डेवर’ की वापसी

कल रात 1 जून 2011, 06.35 UTC पर अमरीकी अंतरिक्ष यान एन्डेवर पृथ्वी पर केनेडी अंतरिक्ष केंद्र फ्लोरीडा मे सकुशल लौट आया। यह एन्डेवर का अंतिम अभियान था।

अपने अंतिम अभियान मे एन्डेवर ने 100 लाख किमी से ज्यादा की यात्रा की। यह अभियान 15 दिन, 17 घन्टे और 51 सेकंड तक जारी रहा। 1992 के अपने पहले अभियान से अब तक इस यान ने २५ उड़ाने की है। इस यान को चैलेन्जर यान की जगह बनाया गया था, जो एक दूर्घटना मे उड़ान स्थल पर ही नष्ट हो गया था। एन्डेवर ने ही 1993 मे हब्बल अंतरिक्ष वेधशाला की पहली मरम्मत की थी।

एन्डेवर का नाम कैप्टन जेम्स कूक के जहाज के नाम पर रखा गया था। इस जहाज पर जेम्स कूक ने दक्षिणी प्रशांत महासागर मे 1769 मे शुक्र ग्रह का सूर्य पर दूर्लभ ग्रहण देखा था। उसे इन ग्रहण से सौर मंडल के आकार की गणना की आशा थी। एन्डेवर यान इसी परंपरा की एक कड़ी था।

मै एन्डेवर के पृथ्वी पर लौट आने पर उसका स्वागत नही कर पाउंगा क्योंकि अंतरिक्ष यान का घर पृथ्वी नही, अंतरिक्ष होता है।