अविश्वसनीय, अद्भुत और रोमाँचक: अंतरिक्ष

पानी रे पानी! कितना पानी ?

In अश्रेणीबद्ध on मई 30, 2012 at 9:12 पूर्वाह्न

पृथ्वी और युरोपा मे पानी की मात्रा की तुलना

पृथ्वी और युरोपा मे पानी की मात्रा की तुलना

यह माना जाता है कि पृथ्वी के तीन चौथाई भाग मे पानी है लेकिन पानी की कुल मात्रा कितनी है ?

इस चित्र के दाहीने भाग मे पृथ्वी है, और उस पर निला गोला पृथ्वी पर पानी की कुल मात्रा दर्शा रहा है। पृथ्वी की तीन चौथाई सतह पर पानी है लेकिन इसकी गहराई पृथ्वी की त्रिज्या की तुलना मे कुछ भी नही है। पृथ्वी के संपूर्ण पानी से बनी गेंद की त्रिज्या लगभग 700 किमी होगी, जोकि चंद्रमा की त्रिज्या के आधे से भी कम है। यह मात्रा शनि के चंद्रमा रीआ से थोडी़ ज्यादा है, ध्यान रहे कि रीआ मुख्यतः पानी की बर्फ से बना है।

चित्र मे बायें बृहस्पति का चंद्रमा युरोपा और उसपर पानी की मात्रा दिखायी गयी है। युरोपा मे पानी की मात्रा पृथ्वी पर पानी की मात्रा से भी ज्यादा है! युरोपा पर पानी उसकी सतह के नीचे लगभग 80-100 किमी की गहरायी तक है। युरोपा के पानी से बनी गेंद का व्यास 877 किमी होगा।

इसलिये वैज्ञानिक आजकल युरोपा मे जीवन की संभावना देख रहे हैं!

  1. Bhavishya ka grah jaha hum rah sakate hai jab earth khatam ho jayega to.

  2. hi sir this topic real option /analizing topic i love my india

  3. Reblogged this on Dhayan Aarogyam and commented:
    यह माना जाता है कि पृथ्वी के तीन चौथाई भाग मे पानी है लेकिन पानी की कुल मात्रा कितनी है ?Add your thoughts here… (optional)

  4. चाँद मे छाँई का क्या मतलब!

  5. very nice question why moon orbital velocity and axial velocity is equal please reply me

  6. पृथ्वी के गोल होने के बावजूद भी पानी पृथ्वी के एक तिहाई भाग पर मौजूद है क्या ये सत्य है यदि हाँ तो कैसे संभव है जबकि नीचे गिरना चाहिए

  7. […] इसलिये वैज्ञानिक आजकल युरोपा मे जीवन की संभावना देख रहे हैं!(स्त्रोत) […]

  8. चाँद मे छाँई का क्या मतलब!,पृथ्वी के गोल होने के बावजूद भी पानी पृथ्वी के एक तिहाई भाग पर मौजूद है क्या ये सत्य है यदि हाँ तो कैसे संभव है जबकि नीचे गिरना चाहिए

    • पृथ्वी अंतरिक्ष मे 12750 किमी व्यास का गोला है। इस गोले की सतह पर जल है जो कि पृथ्वी के केंद्र की ओर गुरुत्वाकर्षण से बंधा है।
      अंतरिक्ष मे उपर नीचे जैसा कुछ नही होता है। पानी नीचे की ओर नही पृथ्वी के केंद्र की ओर खींचा जाता है।
      चंद्रमा पर छाई, उसके पर गहरी खाईयों(निचले भाग) से है।

इस लेख पर आपकी राय:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: