अविश्वसनीय, अद्भुत और रोमाँचक: अंतरिक्ष

उत्तरी अमेरिका निहारिका

In अंतरिक्ष, निहारीका on फ़रवरी 13, 2011 at 6:07 पूर्वाह्न

उत्तरी अमरीका निहारिका (बाएं दृश्य प्रकाश में, दायें अवरक्त प्रकाश में )

उत्तरी अमरीका निहारिका (बाएं दृश्य प्रकाश में, दायें अवरक्त प्रकाश में )

अपने विकास की हर अवस्था में तारे ! नासा की अंतरिक्ष वेधशाला स्पिटज़र से लिए इस चित्र में आप देख सकते है ,धुल भरे छोटे बिन्दूओ से लेकर नए जवान तारो तक !

इस खगोलीय समुदाय का नाम है, उत्तरी अमेरिका निहारिका. दृश्य प्रकाश की किरणों में यह क्षेत्र उत्तरी अमरीका महाद्वीप के जैसे लगता है, आश्चर्य जनक रूप से मेक्सिको खाड़ी की समानता पर ध्यान दीजिये ! लेकिन स्पिटज़र के अवरक्त किरणों से लिए गए इस चित्र में महाद्वीप अदृश्य हो जाता है और बचता है एक धुल और नए तारो से भरा हुआ एक बड़ा सा बादल !

लुइसा रेबुल्ल जो नासा के पासाडेना कैलिफोर्निया में कैलिफोर्निया इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलोजी के स्पिटज़र विज्ञानं केंद्र में काम करती है, के अनुसार

इस चित्र में मुझे सबसे ज्यादा अद्भूत यहाँ लगता है कि दृश्य प्रकाश का चित्र अवरक्त प्रकाश के चित्र से कितना अलग है. हम अवरक्त चित्र में कितना ज्यादा देख सकते है?  स्पिटज़र का चित्र धुल और नए तारे से भरे इस बादल की कितनी सारी विशेषताओं को दर्शाता है.

रेबुल्ल और उनकी टीम ने इस बादल में २००० से ज्यादा नए और नए तारे बनाने के उम्मीदवार तारो का पता लगाया है. इसके पहले ऐसे सिर्पफ २०० तारो की जानकारी थी. ऐसा इसलिए था क्योंकि नए तारे धुल के कम्बल में ढंके हुए थे और दृश्य प्रकाश में छुपे हुए थे. स्पिटज़र का अवरक्त कैमरा धुल में छुपे हुए तारो को देख सकता है.

एक तारे का जन्म सिकुड़ते हुए धुल और गैस के बादल में होता है. जैसे ही पदार्थ अंदर की और सिकुड़ता है, एक गैस और धुल का  तश्तरी नुमा आकार उसके आसपास घूमना शुरू हो जाता है, नया बनाता हुआ तारा एक घूमते हुए भौरे जैसा होता है. एक गैस की तेज धारा इस तश्तरी के ऊपर और निचे लम्बवत बहना शुरू हो जाती है. जैसे ही तारा बड़ा होना शुरू होता है इस धुल और गैस की  तश्तरी से ग्रह बनाना शुरू हो जाते है. अधिकतर गैस ख़त्म हो जाती है और एक सौर मंडल जैसे एक नया परिवार बन जाता है.

स्पिटज़र का यहाँ चित्र तारे के जन्म से लेकर किशोर अवस्था के इन सभी पडावो को दिखाता है, जिसमे धुल के सिकुड़ते बादल, गैस की तेज धारा प्रवाहित करते नवजात तारे, नए ग्रहों के नए पिता तारे तथा परिपक्व तारे.

रेबुल्ल के अनुसार

यहाँ चित्र एक व्यस्त क्षेत्र का क्षेत्र का चित्र है, जहाँ हर जगह तारे  है, उत्तरी अमरीका क्षेत्र में, उसके सामने , उसके पीछे. जो तारे इस क्षेत्र में नहीं है उन्हें हम मिलावट क्षेत्र  कहते है. स्पिटज़र से हम इस मिलावट क्षेत्र को अलग कर सकते है और और इस क्षेत्र ने नए तारो को इस क्षेत्र से अलग पुराने तारो को पहचान सकते है.

उत्तरी अमरीका निहारिका अपने साथ एक रहस्य समेटे है, इसके ऊर्जा श्रोत को लेकर. कोई भी इस निहारिका के ऊर्जा श्रोत बड़े महाकाय तारो के समूह को पहचान नहीं पाया है. स्पिटज़र का चित्र इस निहारिका के मेक्सिको खाड़ी क्षेत्र के पीछे के हिस्से के बारे में छुपे इन महाकाय तारो के बारे में संकेत देता है. यह स्पिटज़र की २४ माइक्रोन तक की रोशनी पकड़ लेने वाली दूरबीन की तस्वीर में मेक्सिको की खाड़ी क्षेत्र के चमक से दिखाई  पड़ता है. यह रोशनी मेक्सिको खाड़ी क्षेत्र के गहरे रंग के बदलो के पीछे से आ रही है, जो पकाश किरणों को अवरूद्ध कर देते है.

इस निहारिका से पृथ्वी की दूरी भी एक रहस्य है, कुछ अनुमानों से यह १८०० प्रकाश वर्ष है. स्पिटज़र इस संख्या को को सही अनुमान के निकट ले जाएगा.

 

  1. […] आकाश मे दिखायी दे तो कैसा लगेगा ? यहां देख लिजिये ! एलीयन , उड़नतश्तरी, परग्रही प्राणी ! […]

इस लेख पर आपकी राय:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: