अविश्वसनीय, अद्भुत और रोमाँचक: अंतरिक्ष

अंतरिक्ष मे एक नाजूक वलय : एस एन आर ०५०९

In अंतरिक्ष, निहारीका on जनवरी 6, 2011 at 5:58 पूर्वाह्न

अंतरिक्ष में मेरे पसंदीदा पिंडो में है तारो के मरने समय सुपरनोवा विस्फोट के बाद बनी गैस कवच निहारीकाये ! साबुन के झाग के बुलबुले जैसी ये निहारिका SNR 0509 ! हब्बल दूरबीन द्वारा ली गयी इस वलयाकार निहारिका कितनी सुन्दर है ?

 

एस एन आर ०५०९: वलय निहारिका

एस एन आर ०५०९: वलय निहारिका

अंतरिक्ष में ऐसी कई और भी निहारिकाये है ! जैसे हेलिक्स निहारिका जो निचे दी गयी तस्वीर में है. हेल्किश निहारिका और  SNR 0509 में एक अंतर यह है कि हेलिक्स निहारिका का वलय मोटा है लेकिन SNR 0509  का वाले काफी पतला है| ऐसा क्यों ?

हेलिक्स निहारिका

हेलिक्स निहारिका

पहले यह समझना जरूरी है कि इस तरह के पिंड कैसे बनते है ? जब कम द्रव्यमान वाला सूर्य जैसे तारा मरता है वह परमाण्विक कणो एक खगोलिय वायू मे उड़ा देता है। यह सौर वायू जैसे होती है लेकिन काफी घनी होती है। इसकी भौतिकी जटिल है लेकिन सरल रूप मे कह सकते है कि तारे के बुढे़ होने पर इस तारे से निकलने वाली परमाण्विक कणो की वायू की गति बढते जाती है। तेज कण धीमे कणो से टकराते है और चमकने लगते है और इस तरह ग्रहीय निहारिका बनती है। चित्र मे दिखायी गयी हेलीक्स निहारिका के जैसे।

कुछ मामलो मे ग्रहीय निहारिका एक वलय जैसे दिखायी देती है जो कि “लिंब ब्राइटनींग(Limb Brightening)” के कारण है। यदि तारे की वायू स्थिर हो तो वह तारे के चारो ओर एक बड़ी गोलाकार निहारिका बनाती है। लेकिन तेज वायू इस गोले को खोखला करते हुये एक खोखले गोले का कवच जैसा बनाती है। जब गैस प्रदिप्त होती है यह अंतरिक्ष मे एक साबून के बुलबुले के जैसे दिखती है क्योंकि किनारो पर केन्द्र की तुलना मे ज्यादा गैस होती है। बाजू मे दिया चित्र देखें। कल्पना करे कि आप एकदम दायें है और बायें गैस के गोलाकार कवच  को देख रहे है। जब आप केन्द्र के आरपार देखते है तब आपको किनारो की तुलना मे कम गैस दिखायी देती है। क्योंकि गैस प्रदिप्त हो रही है; जितनी देर आप उसे देखेंगे वह और चमकिली दिखेगी।  इसलिये निहारिका एक वृताकार  आकार मे किनारो पर चमकती है और मध्य मे अंधेरी होती है, जो एक वलय के रूप मे दिखती है।

यह जानना जरूरी है कि गैस पारदर्शी होती है। यदि वह एक दिवार की तरह अपारदर्शी होती, तब निहारिका एक वलय की जगह एक तश्तरी की तरह दिखायी देती। प्रकाश किरणे गैस के आरपार चली जाती है। इससे कोई फर्क नही पड़ता कि गैस का परमाणू गोलाकार कवच के निकट भाग मे है या दूरस्थ भाग मे; यदि वह प्रकाश उत्सर्जित करता है, वह दिखायी देगा। इससे भी कोई फर्क नही पड़ता कि आप किस दिशा से देख रहे है क्योंकि वह गोलाकार कवच के रूप मे है, आप कही भी हो वह एक वलय के रूप मे ही दिखेगा !

इस तरह की निहारिकाओ के बाह्य किनारे एक दम साफ होते है लेकिन अंदरूनी किनारे धूंधले और मोटे होते है। SNR ०५०९ को देखें, उसके बाह्य किनारे कितने साफ है लेकिन अंदरूनी हिस्सा धूंधला है लेकिन ज्यादा नही। SNR ०५०९ अलग क्यों है ?
इसका उत्तर इसके नाम मे ही है। SNR का मतलब है SuperNovaRemanant। अर्थात सुपर नोवा के अवशेष। यह कोई शांत तरिके से मृत तारा नही है, यह एक विस्फोट मे मृत तारा है। जब यह होता है भौतिकि अलग होती है। सुपरनोवा विस्फोट मे विस्तृत होते पदार्थ की गति अत्याधिक होती है जोकि हजारो किमी प्रति सेकंड हो सकती है। छोटे तारो की मृत्यू मे यह सैकड़ो किमी/सेकंड हो सकती है। इसके अतिरिक्त तारो के मध्य मे काफी सारा पदार्थ तैरते रहता है जो सुपरनोवा विस्फोट से उत्सर्जित पदार्थ से और ज्यादा गति से टकराता है। इससे गैसे और ज्यादा शक्ति से संपिड़ित होती है और आघाततरंगे(Shock Wave) बनाती है। इससे और पतला वलय बनता है।

 

एस एन आर ०५०९ की X Ray तस्वीर

एस एन आर ०५०९ की X Ray तस्वीर

SNR ०५०९ का वलय २० प्रकाशवर्ष चौड़ा है और ५००० किमी/सेकंड की गति से विस्तृत हो रहा है। ग्रहीय निहारिका सामान्यतः १ से २ प्रकाशवर्ष चौड़ी होती है। किसी सुपरनोवा का विस्फोट ही किसी तारे की ऐसी हालत कर सकता है।
हमारा सूर्य इतना बड़ा नही है कि उसमे सुपरनोवा विस्फोट होगा। अपनी मृत्यू के समय वह ग्रहीय निहारिका का पथ चुनेगा। लेकिन यह भी माना जाता है कि सौर मंडल के निर्माता गैस के बादल को पास ही के किसी सुपरनोवा विस्फोट की आघात तरंगो ने सौर मंडल के निर्माण के लिये संपिडित किया था।

जब हम SNR ०५०९ जैसे पिंडो को देखते है हम अपना भूतकाल और भविष्य दोनो ही देखते है। तारो की मौत कितनी ही विस्फोटक क्यो ना हो कितनी सूंदर होती है !

इस लेख पर आपकी राय:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: